सोमवार, 1 जून 2015


  जब उठ जाता हूँ सतह से –पर- रविंदर सचदेव नवल

 युवा कवि रविन्द्र के दास के कविता संग्रह “जब उठ जाता हूँ सतह से” पर युवा कवियित्री रविंदर सचदेव नवल की समीक्षा प्राप्त हुई | आज हम लोकविमर्श में इसी समीक्षा को पढेंगे | रवींद्र के. दास की कविताओं के संदर्भ रविंदर सचदेव की समीक्षा एक उम्दा पाठकीय वक्तव्य है क्योंकि पाठक किसी भी वाद से बंधकर कृति को नही पढता  न ही वह किसी क्लासिकल रचना प्रक्रिया से जोड़कर शिल्प के साथ कोई अन्याय करता है | पाठक पढ़ते समय कृति में डूबता है डूबने के बाद अपने आप को खोजता है जब वह अपने आप को खोज लेता है तो वह रचना को अपना लेता है | रविंदर सचदेव  की यह समीक्षा कृति की अंदरूनी पड़ताल करने के साथ पूर्ण पाठकीय न्याय कर रही है  



संयत ढंग से संवाद करती हुई कविताएं
[रवींद्र के. दास का संग्रह 'जब उठ जाता हूँ सतह से' पर]

रवींद्र के. दास को सबसे पहले फेसबुक पर पढा| बहुत ख़रा खरा लिखते हैं| उनकी पोस्ट पर बहुत सोच-समझ कर कमेंट करिए वरना आपके बौद्धिक स्तर का पिटारा खुलते देर नही लगेगी| हर आम बात का खास पक्ष पेश करते हैं| वो पक्ष जिस पर आम तौर पर किसी का ध्यान न जाए| इतनी सटीक और ख़री बातें की मुझ जैसी इंसान अगर बोलना चाहे तो भय बाँध ले, हड़बड़ा ही जाए|
पर उनकी किताब पढते हुए आप उनके भीतर के आम इंसान से मिलते हैं जो मेरे, इसके,उसके और आपके जैसा ही है| 'जब उठ जाता हूँ सतह से' में उनकी कविताएं पढते हुए मैं उनके व्यक्तित्व में रचे-बसे उसी आम इंसान से मिली|
पहली चीज़ जो महसूस की वो ये कि जितना ख़रा- खरा फेसबुक पर लिखते हैं उससे भी ज़्यादा संवेदनशील कवि है उनके भीतर| साफ,सीधी,सच्ची और जीवन के दु:ख, दर्द , टीस को कहती हुई कविताएं हैं| एक साधारण आदमी अपने रिश्तों में जीता हुआ जो महसूस करता है, अपने आस-पास की बातों पर जो राय रखता वो सब बातें ही हैं इनकी कविताओं में| इनकी कविताएं बातें करती है | खूब सारी बातें |पढते हुए यूँ लगता है जैसे आप ही से बात कर रही हों|सहज-सहज सब कहती हैं| जैसे पुराने लोग किसी कहावत में कोई पूरी बात कह जाते थे| कहीँ- कहीं कविता पढते हुए ऐसे लगता है जैसे रेल में बैठे हुए कोई व्यक्ति बात कर रहा हो और
कोई नई बात निकल आए जो अच्छी लगे| रोजमर्रा की कोई ऐसी बात जिस पर हमारा ध्यान न गया हो या पुरानी बात को नए ढंग से कहा जा रहा हो जैसे| संयत ढंग से संवाद करती हुई कविताएं हैं| इनकी कविता आपके पास बैठतर इत्मीनान से बात करती है| कही उड़ा कर या बहाकर नहीं ले जाती किसी दूसरी दुनिया में| छोटी- बड़ी कठिनाइयों से उपजे दु:ख की बात करती हैं पर बेहद भावुक नहीँ करती, मार्मिकता की और नहीँ खींचती, बस बातें करती हैं ...रोज़-रोज़ की बातें, हमारे आस-पास की दुनिया की बातें| किसी काल्पनिक दुनिया में नहीं लेकर जाती... इसी दुनिया के विरोधाभासों की को उजागर करती हैं|
'माँ को कभी सीरियसली नहीँ लिया' में शब्दों की जादूगरी के बिना कैसे कवि ने कह डाला है-
"माँ, माँ है और क्या !
कभी ध्यान गया ही नहीं कि माँ की भी एक अदद शख्सियत है"
इस बात को कहने में न किसी काव्य शिल्प की ज़रुरत है और न समझने के लिए किसी पाठकीय समझ की|
"बाबू से हमने यही तो सीखा था
कि माँ को डांटने से पहले सोचना नहीं पड़ता|"

हमारी रगों मे गहरे तक रची- बसी पितृ-सत्ता को कितने सीधे ढंग से स्वीकार कर गया है कवि|
'पत्नी' कविता पूरी की पूरी सुंदर है पर सुंदरतम पक्तियाँ लगी-
"जो मेरी जीत का स्वीकार है
और मेरी हार का नकार
मेरी पत्नी है कोई डायरी का पन्ना नहीं"
सहजीवन की सुंदर स्वीकार्यता है इसी कविता की इन पक्तियों में –
"चूंकि नहीं थे बहुत अमीर हम
शायद इसी लिए पाने लगे राहत एक दूसरे की गंध में
देखने लगे सपने एक दूसरे की आँखोँ से
जानने लगे सच एक दूसरे के अहसास में"
स्त्री पर कई सारी कविताएं हैं संग्रह में| पर कविताएं स्त्री के दुःख- दर्द , पीडा़ओं को भाव- विगलित शब्दों में नहीं कहती बल्कि उसकी स्थिति को पुख्ता ढंग से कहती है| हमारे सामाजिक परिवेश उसकी स्थिति और सोच को दिखाती हैं|
"स्त्री संतति" को पढते हुए आपके सामने अपने आस- पास के कई चित्र घूम जाएंगे और आप शुरु से लेकर एक शब्द भी पढे बिना नहीं छोड़ पाएंगे| "हक था तुम्हारा" में कितनी सहजता से एक पुरुष समाज में घुले हुए पुरुषवाद को खुद में महसूस कर रहा है-
"हक था तुम्हारा
जिसे तुम माँगते रहे थे दयनीय बनकर
कि कर दे कोई कृपा
और मैं
अपने कमीनेपन का सबूत देता रहा बार-बार
कारण और कोई नहीं था
बस इतना की मैं पुरुष था
और तुम थे औरत
जिसे सिखाया गया था
जाने- अनजाने
ऐसे ही जीना, और हम जीते जा रहे थे लगातार
और बेहिचक
नहीं दुखता था मेरा मन तुम्हे रौंद कर
ऐसी बात नहीं थी
लेकिन सदियों- सहस्त्राब्दियों के संस्कारों से लिथड़ा मैं
अपने बदबूदार परिवेश में घुटकर भी
न जाने क्यों
कभी कोशिश नहीं की जागने की
नहीं दे पाया आवाज़ अपनी ही ज़मीर को"

एक पुरुष की ये स्वीकारोक्ति स्त्री-पुरुष संबंधों को सहज बना रही है| परिवार के सबसे मजबूत सदस्य माने जाने वाले पिता की बेबसी को उतने ही बढिया ढंग से उकेरा है जितनी शिद्दत से माँ की स्थिति को लिखा है| स्त्री-पुरुष संबंधों के कई आयाम नज़र आ रहे हैं –
"कुछ स्त्रियाँ मर्द से डरती हैं
क्योंकि मर्द को नहीं जानती
कुछ और स्त्रियाँ मर्द से डरती हैं
क्योंकि मर्द को जानती हैं
लेकिन नहीं खुली है कोई खिड़की
औरत और मर्द के बीच"

हर कर कविता विसंगतियों पर प्रहार कर रही है | कई कविताएं हमारी सामाजिक और राजनीतिक व्यवस्था की सड़ाध की बात करती हैं| जीवन के कई सारे पहलूओं को छूती हुई कविताएं हमसे हमारी ही बातें करती हैं| जिंदगी सबको अजीब लगती है, समझ नहीं आती, हैरान करती है और हर आम आदमी की तरह इस कवि को भी-
"क्या क्या जतन न किए
फिर भी, फिसल ही तो गई ज़िंदगी
बंद मुठ्ठी की रेत की मानिंद
और हम देखते रहे - अवाक, अवसन्न"





इन्होने अपनी कविताओं में भी कवि का चोला नहीं पहना और न ही काव्य शिल्प से पाठक को हैरान करने की कोशिश की है, बल्कि पाठक से अपनी बात कही है| ये बात करना ही कविताओं की सबसे बड़ी विशेषता है| आम आदमी के साथ रोजाना घटित होने वाली बातों को रेखांकित करती हुई कविताएं हैं|
कुछ कविताओं में तो आप विशेष पंक्तियां ढूँढ ही नहीं पाएंगे| क्योंकि शुरू से लेकर अंत तक पूरी कविता की सभी पंक्तियां ही विशेष हैं| शुरू से लगकर अंत तक पढकर ही दम ले सकेंगे|
बदलते परिवेश और मिटते मूल्यों की बात कवि कुछ यूँ कर रहा है-
"खेल
बहुत पहले था बच्चों के जिम्मे
खेल तब खेल जैसा था"

आम आदमी के छोटे- छोटे सपनों को जीता हुआ कवि खुद अपनी कविताओं में मौजूद रहता है, कविता से बाहर रहकर बात नहीं करता|
"छोटी- छोटी आँखों में
छोटे-छोटे सपने
जैसे, माँ का संतोष
जैसे, पिता की बेबसी का अंत
जैसे, बहन की शिक्षा का समुचित वातावरण
इन सपनों में घुली- मिली अपनी भी जिंदगी"
'आत्मकथा का बाजार' पढकर बहुत सारे महान लोगों के चेहरे उभर आतें हैं जेहन में जिनकी गलतियों को हम जैसे लोग आकर्षित होकर पढते और सुनते हैं| कवि अपना पक्ष कुछ यूँ रखता है-
"सचमुच लोग
महान लोगों के गुनाह को भी
बड़ी हसरत की नज़र से देखते हैं
कि हाय! मैनें तो ऐसे कुकर्म किए नहीं
इसलिए मैं हो नहीं पाया महान"

'दुःख दूर न हुए' पढते हुए लगेगा मानो कोई आपके पास बैठकर, एक नज़र आपको देखकर, अपने दुःख में खोया, अपने मन की बात कह रहा हो आपसे|
शहरी जीवन की कृत्रिमता एक बच्चे की स्वाभाविकता को कैसे छीन लेती है –
"शहर का बच्चा
कायदे से पैदा होता है
कायदे में रहकर
कायदे की जिंदगी जीता है"
और-
"कई बार जब
नहीं रुचता है माँ- बाप का कायदा
अपना फायदा सोचकर
आँखें बंद कर लेता है
शहर का बच्चा"

कितनी साफ,सटीक और खरी बात है जो रोजाना घटित होते हुए देखते हैं-
"रोते बिलखते शरीफ़ और सच्चे आदमी की
तारीफ का मज़ा ही कुछ और है
ईमान से"
जितनी भी प्रेम कविताएं हैं बहुत स्वाभाविक हैं| बस सबसे बढिया बात ये लगी की कविताएं आपको कहीं बहाकर ले जाने की बजाए आपके सामने बैठकर आपसे नज़र मिला कर बात करती हैं| और भी कई महत्वपूर्ण व पठनीय कविताएं हैं..कई बातें जो मेरी समझदानी का आकार छोटा होने के कारण शायद छूट गई हैं पर एक सजग पाठक उन्हे भी पकड़ लेगा |
--------- रविंदर सचदेव नवल





पता: d/o sh.prithvi raj sachdeva
old grain market,
v.p.o. ding mandi

distt. sirsa(haryana) pin 125058

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें