शनिवार, 9 मई 2015

वे मुझे कमजोर करना चाहते थे 
क्योंकि 
वे महत्वाकांक्षी थे
मैं मजबूत रहना चाहता था 
क्योंकि 
मेरी कोई महत्वाकांक्षा नहीं थी

अशोक कुमार की कविताओं का विस्तार फलक बहुत बड़ा है विभिन्न प्रकार के विषयों को  समेटते हुए परिवेश में तनाव की सृष्टि कर देना और उस तनाव को कविता द्वारा अभिव्यक्त करने का जोखिम उठाना अशोक की खासियत है |जीवन संदर्भों को अनुभव की सीमाओं में परखकर पाठकीय संवेदना को झकझोर देने वाली कवितायें अपने समकालीन दबावों को स्वीकार करती है | व्यवस्था द्वारा गढे गये समय के क्रूर , आतंककारी ,स्वार्थी चरित्र को आलोचित करते हुए अशोक मनुष्य के पीडाबोध को व्यापक सामाजिक संदर्भों से जोड़ देते हैं उनकी यह रचनात्मक प्रक्रिया राजनीति और पूँजीवाद के अनैतिक गठजोड़ से उत्पन्न बहुस्तरीय जटिलताओं को उघाड़ने के काम आती है |उनकी भाषिक संरचना राजनीति के छद्म कार्य व्यापारों को पकड़ने में सक्षम है यही कारण है उनकी कविता घिसे पिटे  मुहावरों से प्रथक होकर जनतांत्रिक भाषा में नए मुहावरे तलास करती हुई प्रतीत होती है और कविताओं में व्याप्त घुटन , तनाव , आक्रोश किसी न किसी सकारात्मक स्वर का संबल देते है | यहाँ बेचैनी फैसन नही है न ही वो नकली धडकनों से पैदा हो रही है बल्कि व्यवस्था की आग में जल रहे एक युवा कवि के सामयिक तेवरों को रेखांकित कर रही है | अशोक कुमार युवा कवि है इनकी कविताओं से मुझे निलय जी ने परिचित कराया पिछले एक हफ्ते से मैं इनकी कविताओं को पढ़ रहा था आज मैं साथी अशोक कुमार की कुछ कविताएँ प्रकाशित करने के  बहाने पिछले दो माह से व्यस्तताओं के कारण स्थगित चल रहे लोकविमर्श ब्लॉग को  पुन: आरम्भ कर रहा हूँ | ब्लाग अब लगातार अपडेट होगा | हम समस्त विधाओं का प्रकाशन करते है शर्त ये है की रचना सरोकार पूर्ण हो |


 अशोक कुमार की कवितायें

१ खुशखबरी 
____________
कई बार 
खुशखबरी क्या होती है सचमुच
चीजों के भाव गिरने के
बुखार उतरता है 
कई बार 
मियादी बीमार के .
२ झुका सिर 
___________
उसके आगे मैंने सिर झुकाया 
और उसकी कैंची मेरे बालों में चलने लगी थी
साब जी पचीस साल हो गये 
टीन टप्पर की दुकान के
जरूर हुए होंगे 
पंद्रह साल से तो मैं तुम्हें जानता हूँ
बाल बनाते समय वह चुप कहाँ रहता था 
खोद खोद कर पूछता था
भईया बच्ची को अब नहीं लाते
हाँ, बड़ी हुई न 
अब तो पार्लर में बाल कटाती है
आप भी तो कम आते हैं
मैंने कहा-  हाँ 
बाल भी तो कम हुए न अब
मैंने पूछा 
तुम्हारी बेटियाँ
बोला वह 
सर, तीनों की शादी कर चुका
चलो अच्छा किया
साब 
बहुत दिनों बाद आये हैं 
रामनवमी है 
बख्शीश भी मिलता कुछ
मैंने गौर किया था 
उसका सिर झुका हुआ था.
३ वसंत 
__________
वसंत एक उतरा हुआ जामा था 
आदमी ने अपनी त्वचा से उतारी थी 
जमी हुई बर्फ की परत 
और पेड़ अपनी खाल झाड़ रहे थे
एक औरत कोयल के साथ कूक रही थी वहीं 
जहाँ आम अपनी मंजरियों से रस टपका रहे थे
यह निम्बोलियों के पकने का समय था 
महुओं के टपकने का समय था 
ठंड से बचे हुए आदमी के लिये 
गरमी से लड़ने की तैयारी का समय था
पलाश के खिलने का समय था वसंत 
गेहूँ की बालियों के पकने का समय था
वसंत एक साल बीत जाने का समय था 
उम्र की गिनती का समय था.
४ दंभ
____________
वे मुझे कमजोर करना चाहते थे 
क्योंकि 
वे महत्वाकांक्षी थे
मैं मजबूत रहना चाहता था 
क्योंकि 
मेरी कोई महत्वाकांक्षा नहीं थी
मैं लोभी नहीं था 
मैं दुर्बल नहीं था 
मैं जितेन्द्रिय था 
मैं कामी नहीं था 
मैं कायर नहीं था
और वे मुझे कमजोर करना चाहते थे 
क्योंकि वे कमजोर थे 
और उनकी महत्वाकांक्षायें पैर पसार रही थीं 
पर तोल रही थीं.
५ बहसों के बीच 
_____________
बहसें जब खुले मैदानों में  होती थीं 
जहाँ सोमरा मंगरा बुधना थे 
उन्हें सख्त ताकीद थी 
कि वे भाषा में तमीज और तहजीब को जिन्दा रखें
बहसें अब भव्य बंगलों के आलीशान कमरों में हो रही थीं 
जहाँ सोमरा मंगरा बुधना नहीं थे 
ताज्जुब था कि भाषा 
बदतमीज और बे- तहजीब कैसे हुई थी.
' सीली हुई माचिस की तीलियाँ '
__________________________
माचिस की तीलियाँ बिन बरसात
गीली पड़ी थीं
माचिस की तीलियाँ भीषण गरमी के बावजूद महरायी हुई थीं
दिन भर काम के बाद
औरत जब फूँकना चाह रही चूल्हा
बेदम पड़ी थीं तीलियाँ
बिन पानी बादलों की तरह .
खतरनाक दौर था जब
विधेयक खो रहे थे अपना पाठ
और न्याय को संभाले हुए थी
एक तिरछी तराजू .
चाक गढ रहे थे कच्चे बरतन 
पकानेवाली भट्ठियाँ आग के बिना सूनी और ठंडी पड़ी थीं
ठंडेपन का आलम यह था कि जब लोग मिला रहे थे हथेलियाँ
बर्फ के ठंडेपन की सूईयाँ चुभ रही थीं
आग गायब हो रही थी लोगों के जेहन से
शहर के हड़ताली चौक से बुझी हुई आग समेट रहे थे लोग
सीली हुई माचिस की तीलियाँ
सूखने के इंतजार में थीं .

' जनता चुनती है आम आदमी '
________________________
जनता ने चुना आम आदमी 
और वह सत्ता की दीवारों में चिना गया 
फिर समय की भट्ठी में तप कर खास बन गया
जनता ने पहले भी चुने थे आम आदमी 
जो महल के परकोटे पर चढ कर 
खास हो गये थे
जनता ने फिर चुना आम आदमी 
इम्तहान की घड़ियों ने जब टिक - टिक किया 
वह खास हो गया था
जनता हर बार चुनती है आम   ही आदमी 
और हर बार वह खास हो जाता है .
' आश्चर्य '
_________________
दुनिया का सबसे बड़ा आश्चर्य पूछा था यक्ष ने युधिष्ठिर से
धर्मराज ने कोई माकूल जवाब ही दिया था 
सबसे बड़ा सच भी पूछा था
सबसे बड़ा झूठ भी
लोभ के कारण भी
मुक्ति के उपाय भी .
... फिर भी दुनिया में घड़ियाल बढ गये थे 
डायनासोर विलुप्त हो गये थे
वे होते तो बढ गये होते .
ऐसा तो नहीं था कि वाजिब सवाल वे न थे
ऐसा भी तो नहीं था कि वे पूछे जाने जरूरी थे .
वे सवाल हरगिज गैर-प्रासंगिक और अनुपयोगी नहीं थे
उन सवालों का जवाब दे रहा था आदिमानव 
कंदराओं की भीत्ति-चित्रों से बाहर निकल कर 
जब नदी किनारे किसी बस्ती का चित्र खीँचा उसने 
मिट्टी की ढूह पर 
जब पेट की आग के लिये
चकमक पत्थरों से निकाल रहा था आग वह
और अपने पैरों में बाँध लिये पहिये .
अब तो महा-मानव भी पैदा कर लिये थे आदि-मानव ने
उनके पंख भी बाँध डाले थे 
ऐश्वर्य के साम्राज्य भी खड़े कर डाले थे .
यक्ष फिर भी था वहीं
और वही प्रश्न दुहरा रहा था.
फर्क था एक 
कि धर्मराज न था कोई
यक्ष अनुत्तरित था .










अशोक कुमार, शैलजा अपार्टमेंट, फ्लैट संख्या 102/बी, मटवारी, हजारीबाग (झारखंड) . मोबाइल संख्या 08809804642
      

1 टिप्पणी:

  1. दो बातें इन कविताओं से निकलती है एक कवि की समाजिक प्रतिबद्धता और दूसरी साफगोई ।जीवन स्थितियों से रची गई इन कविताओं को पढ़ना रूचिकर काव्यात्मक अनुभवों से गुजरना है ।

    उत्तर देंहटाएं